इन घरेलू उपाय से हाजमे की खराबी होगी जड़ से खत्म

Posted by

रोग के कारण

यह रोग भोजन पचाने वाली क्रिया से संबंधित है इसमें आमाशय तथा आंतों की पाचन शक्ति कम हो जाती है भूख नहीं लगती है इसके अलावा दिन में सोने रात में अधिक देर तक जागने अतिरिक्त शोक क्रोध डर चिंता एशिया दुख वा प्लेस प्लेस दुखवा क्लेश के कारण भी यह रोग हो जाता है जाता है

रोग की पहचान

1- हृदय पर भारीपन मालूम पड़ता है
2- भोजन करने के बाद उल्टी हो जाती है या बार-बार कच्ची डकारे रहे आती हैं
3- दस्त खुलकर नहीं आता है
4- सिर में दर्द तथा शरीर में दर्द काम में मन ना लगना चलने फिरने में तकलीफ स्वास्थ संस्था पर दबाव महसूस होने लगता है|

 

घरेलू उपाय


1-अदरक को छीलकर उसके छोटे छोटे टुकड़े कर लें उसमें नींबू और नमक मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम भजन के साथ खाएं|


2- अजवाइन तवे पर भून कर उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाकर पीस लें| भोजन के बाद दोनों समय एक-एक चम्मच चूर्ण पानी के साथ सेवन करें|


3- सौंठ कालीमिर्च तथा पीपल| तीनों की 10 10 ग्राम मात्रा लेकर पीस लें सेंधा नमक मिला लें भोजन के बाद इन में से दोनों समय आधा-आधा चम्मच चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें|


4- चार दाना काली मिर्च, 4 लौंग, दो चुटकी काला नमक ले तीनों को पीसकर चूर्ण बना लें इसे आधा कप पानी के साथ उबाल करती हैं|


5- अजवाइन दो चम्मच, दो छोटी हरड़, हींग आधी चुटकी, नमक स्वाद के अनुसार लेकर सब को पीस है भोजन के बाद इस पाचक चूर्ण को गर्म पानी के साथ लें| उपाय|

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *