फास्ट फूड खाने वाले सावधान पढ़ें पूरा आर्टिकल

फास्ट फूड में तले हुए तथा बिना रेशे वाले खाद्य पदार्थ होने के कारण यह पाचन तंत्र को खराब कर देते हैं और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों को सुरक्षित रखने के लिए प्रयोग में लाए गए केमिकल्स भी पाचन तंत्र पर बुरा प्रभाव डालते हैं रेशेदार और प्राकृतिक भोजन की उपेक्षा के कारण पेट में रोग पनपते हैं और धीरे-धीरे स्वास्थ्य को चौपट कर देते हैं |माता पिता और मित्रों की देखादेखी बच्चे भी फास्ट फूड खाना बड़प्पन की निशानी मानते हैं |अतः समूचा परिवार ही विभिन्न प्रकार के रोगों की चपेट में आ जाता है और शरीर को उपेक्षा का परिणाम व्यक्ति को डॉक्टर के यहां चक्कर काट कर चुकाना पड़ता है रोगों के कारण शरीर नष्ट हो जाता है सो अलग|

अतः सीधी सी बात है घर का पका ताजा और स्वच्छ संकलित एवं पोस्टिक खाना खाने से रोबो से सदैव मुक्ति मिलती है यह भी तो एक तरह से भोजन द्वारा चिकित्सा ही है|

चाय और कॉफी जैसे उत्तेजक पदार्थ आज हमारे दैनिक खान पान का हिस्सा बने हुए हैं| अत्यधिक मात्रा में चाय और कॉफी का प्रयोग व्यक्ति खासकर बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर बहुत ही घातक असर डालता है| बच्चों में उत्तेजना चिंता मानसिक थकान याददाश्त की कमी आलस और खुशी इन्हीं उत्तेजक मार्ग और मादक पदार्थ की देन है|

इधर पिछले कुछ वर्षों से कुछ गुटखा कंपनियां विभिन्न प्रकार के आकर्षक पैकेटों मैं तंबाकू मिश्रित और सादा गुटखा बेच रही है |बार बार इन गुटखा के दुष्प्रभाव से सतर्क करने वाले लेख छपते रहते हैं मुंह का कैंसर त था आतो के अनेक रोग इन्हीं विषैले पदार्थ की देन है|

बीड़ी सिगरेट पीने और शराबखोरी का प्रशन भी पिछले दिनों समाज में तेजी से बड़ा है| आकर्षक विज्ञापन इन पदार्थों को प्रतिष्ठा का प्रतीक बना रहे हैं |जिसके युवा शीघ्र ही इनकी ओर आकर्षित हो रहे हैं| नशे कार्य शिकंजा जाने कितने लोगों को बेमौत मार चुका है और कितने ही लोग अपनी गिरफ्त में कसता जा रहा है मुंह, गले, छाती, फेफड़े आदि के कैंसर पथरी गैस अफारा बदहजमी अन्य पेट के रोग नेत्र और मस्तिष्क रोग की तरह जाने कितने लोगों को इस के चक्कर में हमने खुद को अपने ऊपर ले लिया है |घरेलु दवाएं इन रोगों और बुरी आदतों से बचाव में बड़ी महत्वपूर्ण और स्थाई भूमिका निभा सकती हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *