हाय तौबा | पसीने की दुर्गंध कैसे, छुटकारा पाएं

कुछ लोगों को पसीना अधिक आता है तो कुछ लोगों को कम सर्दियों में पसीना कम आता है गर्मियों में ज्यादा सदा खुश रहने वाले तनावमुक्त पुरुषत्व नारी को पसीना कम आता है तनाव से ग्रस्त को अधिक यह आदमी पर मौसम पर आदमी की प्रकृति व शारीरिक कार्यों पर ही निर्भर करता है आइए जाने की पसीने से दुर्गंध क्यों आती है किस कारण पसीना आता है यह दुर्गंध कैसे समाप्त की जा सकती है

पसीने की दुर्गंध से बचने के उपाय

1 दिन में 2 बार नहाने से शरीर की दुर्गंध दूर हो जाती है सावर के नीचे नहाया जाए तो अधिक लाभ होता है

2-हमारे शरीर पर हमारी त्वचा पर बैक्टीरिया को पढ़ने से 12 घंटे का समय लगता है इसी समय यह विकसित होते हैं अतः समय पर नहाने से इन्हें विकसित होने से रोका जा सकता है|

3-जो लोग अपनी व्यवस्था के कारण दूसरी बार नहीं नहा सकते या फिर आलस के कारण नहीं नहाते हैं वह अपने शरीर में विकसित हो रहे बैक्टीरिया की रोकथाम नहीं कर सकते हैं तथा उन्हें बहुत हानि उठानी पड़ती है|

4-हमारे शरीर में अधिक पसीना तब आता है जब हम अधिक परिश्रम करने वाले रहते हैं प्रदूषण भी पसीना लाता है चलने से ही पसीना निकलता है अतः यदि संभव हो तो इन स्थितियों से बचना चाहिए|

5-नहाते समय साबुन का प्रयोग करें इससे शरीर में ताजगी बनेगी त्वचा दुर्गंध नहीं रहेगी|

6-पसीना निरोधक साबुन का पाउडर का भी प्रयोग किया जा सकता है|

7-जिसे पसीना कम आता है वह तो आसानी से बच सकता है कोई भी दुर्घटना नाशक प्रयोग कर सकता है लाभ होगा

8-याद रहे नहाते समय त्वचा के छेद बंद हो जाते हैं जिससे पसीना आता है अतः इस समय पसीना निरोधक व्यर्थ जाएगा इस कारण नहाने के तुरंत बाद पसीना निरोधक रसायन लगाना इसे इसे व्यर्थ मत खोना

9-यदि नहाने के बाद दुर्गंध नाशक पदार्थ का प्रयोग हो तो अवश्य लाभ होता है

10-गर्मियों के मौसम में खाद्य सूती कपड़ा ही पहनना चाहिए पोलिस्टर नायलॉन सिल्क का कोई भी सिंथेटिक वस्त्र नहीं पहनना चाहिए वरना इन कपड़ो के होते पसीना तो आएगा पर वाष्पीकरण नहीं होगा तब यह दुर्गंध तो देता ही है

11-इन दोनों ग्रुप को धीरे सूती कपड़े पहनने चाहिए पेंट से भी अच्छा होता है पजामा कुर्ता पजामा गर्मी में बेहतर रहता है

12-गर्मी के मौसम में तेज रंगो वाले वस्त्र पहने हल्के रंगों वाले हल्के सूती कपड़े अच्छे रहते हैं कपड़े तंग ना हो खुले पहने|

13-पाउडर को केवल गले के पास छिड़कने से काम नहीं चलता इसे शरीर के अधिक से अधिक हिस्सों पर लगाएं तभी लाभ होगा
शरीर के इन हिस्सों को जहां से पसीना अभी निकलता है ठीक से साफ रखना चाहिए तथा विशेष ध्यान देना चाहिए|

14-गर्मी के दिनों में दो बार नहाने की आदत डालें|

15-अपने बनियान अंडरवियर सुरक्षा पहने प्रतिदिन बदले|

ध्यान दे कि हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने के लिए हमारी त्वचा बहुत मदद करती है यह रोगों से छुटकारा दिलाती है| हमारे शरीर के अंगो की रक्षा करती है शरीर से पसीना बहना का अर्थ है अंदर और बाहर के तापमान के अंतर को समाप्त करना यह प्राकृतिक क्रिया है |हम शरीर को पूरी तरह सोच रखकर किसी भी भाभी खतरे से बच सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *